(2018 में) रोहित के मरने से क्या होता है

डेल्टा मेघवाल मरती है और राजस्थान में शराब के दामों पर पुनर्विचार किया जाता है. राहुल गांधी डेल्टा को इंसाफ़ दिलवाने का वादा करते हैं और डेल्टा मेघवाल के मामले में क्या होता है, किसी को कुछ नहीं मालूम. डेल्टा मेघवाल 2018 में एक मौसम की याद सरीखी बनकर रह जाती है. 

रोहित जब मरता है तो देश एक लम्बे उलटफेर में बैठ जाता है, इस्तीफ़े मांगे जाने लगते हैं और प्रदर्शन होने लगते हैं. छात्रों के आंदोलित होने के साथ नियमतः कुलपति लोग भी आंदोलित हो ही जाते हैं. कुलपति आंदोलित होते हैं ऊपर से डंडा पड़ने पर. ऊपर से जब डंडा पड़ता है तो पता चलता है कि भीड़ का दिमाग़ बहुत ऊंची छलांग मार चुका है.

मानव संसाधन विकास मंत्रालय धीरे-धीरे कपड़ा मंत्रालय में बदल जाता है और कपड़ा मंत्रालय बहुत पहले ही मानव संसाधन विकास मंत्रालय में बदल चुका होता है. कपड़ा इसलिए कि काग़ज़ों से दूर दीक्षांत समारोहों के कपड़े बदले दिए जाते हैं और छात्र राष्ट्र की भावना समझें, इसके लिए कपड़े का झंडा भी फहराने की योजना पर काम किया जाता है. इसलिए कपड़ा मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय एक दूसरे के पूरक साबित होते हैं. 2018 में आते-आते संसाधन-कपड़ा-प्रसारण मंत्री टीवी पर कंडोम के विज्ञापन बंद करा देती हैं.

और क्या होता है?

कन्हैया कुमार उठ खड़ा होता है, वह आंदोलन करता है. वह बहुत सारे आंदोलनों की एक बड़ी आवाज़ बन जाता है. यह आवाज़ हलक से तब ग़ायब होती है जब वह चुप हो जाता है, एक किताब निकालता है और फिर एक और, फिर अपनी आवाज़ों को समेटकर शायद धुंधलके में बैठ जाता है. और उमर ख़ालिद फिर भी धीमी-धीमी लेकिन मज़बूत आवाज़ों के साथ लगा रहता है. यहां मैं 2018 में कुछ और लिख सकता हूं, जब यह मालूम चलता है कि मेरा आकलन कितना सतही था, यह जानते हुए कि विश्वविद्यालयों में चल रहे नव-दलित आंदोलनों को सबसे भयानक तरीक़े से वामपंथियों ने ही दरकिनार किया है.

डेल्टा मेघवाल मरती है और राजस्थान में शराब के दामों पर पुनर्विचार किया जाता है. राहुल गांधी डेल्टा को इंसाफ़ दिलवाने का वादा करते हैं और डेल्टा मेघवाल के मामले में क्या होता है, किसी को कुछ नहीं मालूम. डेल्टा मेघवाल 2018 में एक मौसम की याद सरीखी बनकर रह जाती है.

छत्तीसगढ़ में और झारखंड में भी बहुत कुछ होता है, होता है इतना कि वहां जाने वाला पत्रकार गिरफ़्तार हो जाता है, मानवाधिकार कार्यकर्ता तो गिरफ़्तार होने के लिए बने ही थे. लेकिन 2018 में भी उसे दूर से ही देखने की योजना पर काम चालू रहता है.

एक खोयी हुई वेबसाइट पर रोहित वेमुला को ‘असंतुलित’ कहा जाता है, यही क्या कम है?

गुजरात में चार दलितों को वाहन के पीछे बांधकर मारा जाता है, गुजरात को दिखता है कि दलितों ने शपथ ले ली है कि वे अब मैला नहीं उठाएंगे. जिग्नेश मेवाणी कई बार गिरफ़्तार होते हैं. बहुत बड़ा आंदोलन होता है. चार पीड़ित भाजपा का हाथ पकड़ते हैं फिर न ख़बरों में वे दलित दिखायी देते हैं और न ही जिग्नेश. 2018 में वामपंथी साथियों की मदद से सरकार बनाकर जिग्नेश तो फिर बहुत दिखते हैं.

बहुत सारे छात्र राष्ट्रद्रोही साबित तो होते हैं, इसमें समस्या क्या है? यह अच्छा है क्योंकि अब सिनेमा हॉल में बजेगा ‘राष्ट्रगान’. और 2018 में उत्तर प्रदेश में राष्ट्र्गान के पहले दिखाया जाएगा अर्थकुंभ का लोगों.

रोहित के मरने के बाद बंद होते हैं नोट, कुछ लोग मरते हैं. इन मौतों को सहजता से लेते हुए हम कहते हैं कि भ्रष्टाचारियों पर कस गयी है नकेल. इस तथ्य से दूर कि 97 प्रतिशत पुराना पैसा बैंकों में अब वापिस है. 2018 में यह बात बकवास में बदल जाती है, क्योंकि मेरे पास ऐसे कई सारे संदेश हैं जिनमें लिखा है कि अपने बैंक खाते को आधार से जोड़िये वरना आप नए नोट भी नहीं ख़र्च कर सकेंगे.

दादरी का अध्याय मत खोजो पांडू, वो तो पहले ही मर गया था. वरुण ग्रोवर सही कहता है कि उसकी मौत और उसके मौत की जांच किसी चुटकुले से कम नहीं है, लेकिन क्या फ़र्क़ पड़ता है कि मर गया था कोई. 2018 में हत्यारे जीभ से सांस लेते हैं.

हिन्दी कविता पर मुक्तिबोध का जितना उपकार है, उससे बड़ा उपकार मुक्तिबोध ने समाज पर कर दिया है. ऐसे ही नहीं हमने उस लड़के को उस भोर इस कविता का पाठ कराया था.

‘मेरा दिल ढिबरी-सा टिमटिमा रहा है’

रोहित मरता है तो देश का एक साल का कैलेंडर युवाओं के आसपास लिखा पड़ा होता है. हममें से कई लेखक, छात्र या पत्रकार अपना कम्फ़र्ट ज़ोन धीरे-धीरे तोड़ते हैं. कुछ नहीं तोड़ते हैं तो फ़िल्में ही देखते हैं. हम भी देखते हैं. हम थोड़ा और शिद्दत से प्रेम करने लगते हैं.

रोहित भारत का नया चे ग्वेवारा बनकर उभरता है. वह एक आइकन में बदलता है. 2018 में इस स्थापना को बदला जाता है, और रोहित वेमुला रोहित वेमुला ही रहता है.

एक प्रकाशक बताता है कि इस साल Annihilation of Caste बहुत ज़्यादा बिकी. अम्बेडकर समग्र भी बहुत भर-भर उठाया गया पुस्तक मेले से. लोग पढ़ने लगे अम्बेडकर को. लोग शिक्षित हुए कि अम्बेडकर से क्या कुछ सीखा जा सकता है? रोहित ने शिक्षा को थोड़ा और चौड़ा किया. 2018 में ऐसा नहीं होता है.

रोहित जातियों को समझने के रास्ते खोलता है.

रोहित के जाने के बाद पता चला कि अंतिम पत्र की भाषा भी कितनी महान हो सकती है, बहुत दिनों तक यह सोचना ज़रूरी हो जाता है कि मरने के पहले भी ऐसी महान भाषा कहां से आती है?

और बीच में ही कहीं पूर्वोत्तर से लड़कियों की ट्रैफ़िकिंग की ख़बर प्रकाशित होती है, और उस पत्रकार के ख़िलाफ़ केस भी दर्ज हो जाता है. कोई एक अन्य पत्रकार लिखता है कि संगठन ने सभी को रोहित वेमुला समझ लिया है, लेकिन संगठन नहीं जानता कि रोहित वेमुला कितनी बड़ी ताक़त है.

बुरी आदतें धीरे-धीरे लौट आती हैं. कुछ प्रेम फिर से जीवन को बहुवचन बनाते जाते हैं. डर धीरे-धीरे घर करता है और जेब धीरे-धीरे ही खाली होती है.

और क्या होता है?

2018 में दो दूनी चार, चार चौके सोलह ही होता है. कविता में कुछ नया नहीं होता है, हत्याओं के लिए कोई गणित नहीं होता है.

[इसे 2017 की जनवरी 17 को लिखा गया था. 2018 में इसे फिर से रखा जा रहा है, कुछ जोड़ों के साथ, कुछ मरहम-पट्टियों के साथ.]

Share, so the world knows!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *